Silence. Forgiveness. Grace. This is what we learn: Be meek, be kind, be silent. Accept abuse. Accept pain. Stay silent. But silence, forgiveness, grace cannot always save us When silence covers up abuse, forgiveness prolongs pain, and grace enables an abuser, we must change what we have learned. No more silence. No more tolerating abuse for empty values. No more silence.  © Shenita Etwaroo

Can you hear them? They’re calling out to you. A trillion voices, all lifted up, Their song in discord, A melancholy plea. Does the call for Justice reach your ears When you look down at your breakfast plate? A meal of anguish rests between your fork and knife. © Shenita Etwaroo

We share the Earth with beautiful creatures People and animals of all kinds, in all areas of the world. We differ in appearance…but share a common problem: We are slaves to abuse and cruelty.   Though many souls are kind and pure Evil shadows them. We often say we care enough But efforts cease to follow.   Domestically, all fit the bill Held against their will, at any costs People and animals treated as property, with no choice… Cruelty and Abuse. The acts of slavery.   We must shine a light on slavery. No human should be treated as less than equal No animal should be physically harmed No creature should be starved or forced to struggle All should be free.   Many who harm one another have harmed animals Noticing one can help prevent the other If you stand up, you can be a hero No one else needs to suffer.   Evaluate the situation that stands before you The more you learn, the more you can help Let others know, so you can save another. Less slavery in our world.   © Shenita Etwaroo

For decades you’ve used our bodies as your pincushionPoking, prodding, cutting, and killing.Forcing us to be your experimental subjectsScraping, shocking, drugging, and drilling.Locking us up in meager dwellingsFilthy, restrictive, desolate, and cramped.Filling me with toxins, chemicals, and poisonsUpon my skin a brand is painfully stamped.My skin burns as you cover me with makeup and creams.My muscles ache with each electrical shock.My brain no longer functions as it shouldYou’ve carelessly destroyed my biological clock.You alter the very DNA that nature gave meI was not created for misery and imminent death.Are the answers to your scientific questionsReally worth taking my very last breath?Stop using me as your puppet, pincushion, and servantTreat me with kindness, compassion, and respectWith all the advances to technology these daysSurely you could find an alternative subject.   © Shenita Etwaroo

                              Power of Brain – II                                   सापेक्षता का नियम  (Theory of Relativility)जीवन एक ऐसी शक्ति है , जिसे हर तरफ महसूस किया जा सकता है। आकाश, पाताल और धरती हर जगह इसके अंश किसी रूप में मौजूद हैं।जब से धरती बसी है, इसके कण-कण में बसा जीवन एक लय में थिरक रहा है और इस जीवन के इस लय को निर्धारित करती है गति यानि मोशन (Motion), वो नियम जो पता नहीं कब से गति को निर्धारित करते चले आ रहे हैं, हाँ यह अलग बात है कि मनुष्य को इसकी जानकारी करीब 300 साल पहले हुई।जब दुनिया ने इन नियमों को एक नये नाम से पहचाना।सर आइजक न्यूटन (1682 – 1727)                न्यूटन ने हमें यह वताया कि कोई भी वस्तु स्थिर या एक समान गति की अवस्था में तब तक रह सकती है जब तक कोई बाहरी बल कार्य न करे।ये बल उसकी गति को खास कर के घटा – बढ़ा भी सकती है। परन्तु गति और उसके नियमों के साथ ये iz”u भी उठा की गति का निर्धारण कैसे किया जाय ।जैसे  :- मान ले दो रेलगाड़ी एक ही दिशा में 50 किलोमीटर प्रति घंटा के रफ़्तार से जा रही हो तो उन गाड़ियों में बैठ यात्रियों के लिए दूसरी ट्रेन स्थिर नजर आएगी जब कि प्लेटफॉर्म पर खड़ा व्यक्ति गाड़ियों को 50 किलोमीटर प्रति घंटा के रफ़्तार से चलता हुआ मानेगा ।तो iz”u ये था कि ट्रेन कि गति का मान किसके अनुमान पर निर्धारित किया जाये।  ट्रेन में बैठे व्यक्ति के अनुसार पर या फिर प्लेटफॉर्म पर खड़े व्यक्ति के आधार पर।जबाव था दोनों अपनी अपनी जगह सही हैं।  वस्तु के गति का मान अनुमान लगाने वाले व्यक्ति की स्थिति पर निर्भर करेगा। अर्थात वो स्थिर अवस्था में अनुमान लगा रहा है या गतिशील होकर।संक्षेप में कहे तो निष्कर्ष था गति निरपेक्ष नहीं सापेक्ष है।  पर गति…